Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
GK/GS IAS Notes

भारत निर्वाचनआयोग : जनरल नॉलेज – अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

भारत निर्वाचनआयोग

भारत निर्वाचनआयोग-Hello Everyone, जैसा की आप सभी जानते हैं कि हम यहाँ आप सभी के लिए wikimeinpedia.com हर दिन बेस्ट से बेस्ट स्टडी मटेरियल शेयर करते हैं. जिससे की आप की परीक्षा की तैयारी में कोई समस्या न हो. तो इसीलिए लिए दोस्तों हम आप सभी स्टूडेंट्स के लिए अपने इस पोस्ट के माध्यम से एक बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी शेयर कर रहे हैं भारत निर्वाचनआयोग. सामान्य ज्ञान से जुड़े बहुत से प्र्श्न सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाते हैं इसलिए आप Notes को ज़रूर पढ़े |

भारत निर्वाचनआयोग

भारत निर्वाचनआयोग

भारत निर्वाचन आयोग के बारे में

  • एक संवैधानिक निकाय
  • आयुक्तों की नियुक्ति तथा उनका कार्यकाल
  • कार्य निश्पादन
  • संगठन
  • बजट तथा व्यय
  • राजनीतिक दल तथा आयोग
  • कार्यकारी हस्तक्षेप प्रतिबंधित
  • परामर्षी अधिकार-क्षेत्र तथा अर्ध न्यायिक प्रकार्य
  • न्यायिक समीक्षा
  • मीडिया नीति
  • मतदाता शिक्षा
  • अंतर्राष्ट्रीय सहयोग
  • नई पहलें

संवैधानिक निकाय

भारत एक समाजवादी, धर्म निरपेक्ष, लोकतांत्रिक गणराज्य एवं विष्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। आधुनिक भारतीय राश्ट्र राज्य 15 अगस्त, 1947 को अस्तित्व में आया था। तब से संविधान में प्रतिश्ठापित सिद्धान्तों, निर्वाचन विधियों तथा पद्धति के अनुसार नियमित अन्तरालों पर स्वतंत्र तथा निश्पक्ष निर्वाचनों का संचालन किया गया है।

भारत के संविधान ने संसद और प्रत्येक राज्य के विधान मंडल तथा भारत के राश्ट्रपति और उप राश्ट्रपति के पदों के निर्वाचनों के संचालन की पूरी प्रक्रिया का अधीक्षण, निदेषन तथा नियंत्रण का उत्तरदायित्व भारत निर्वाचन आयोग को सौंपा है।

भारत निर्वाचन आयोग एक स्थायी संवैधानिक निकाय है। संविधान के अनुसार निर्वाचन आयोग की स्थापना 25 जनवरी, 1950 को की गई थी। आयोग ने अपनी स्वर्ण जयंती वर्श 2001 में मनाई थी।

प्रारम्भ में, आयोग में केवल एक मुख्य निर्वाचन आयुक्त थे। वर्तमान में इसमें एक मुख्य निर्वाचन आयुक्त और दो निर्वाचन आयुक्त हैं।

16 अक्तूबर, 1989 को पहली बार दो अतिरिक्त आयुक्तों की नियुक्ति की गई थी परन्तु उनका कार्यकाल बहुत कम था जो 01 जनवरी, 1990 तक चला। तत्पष्चात् 01 अक्तूबर, 1993 को दो अतिरिक्त निर्वाचन आयुक्तों की नियुक्ति की गई थी। तब से आयोग की बहु-सदस्यीय अवधारणा प्रचलन में है, जिसमें निर्णय बहुमत के आधार पर लिया जाता है।

जरुर पढ़े… 

आयुक्तों की नियुक्ति एवं कार्यकाल

मुख्य निर्वाचन आयुक्त एवं निर्वाचन आयुक्तों की नियुक्ति राश्ट्रपति द्वारा की जाती है। उनका कार्यकाल 6 वर्श तक, या 65 वर्श की आयु तक, इनमें से जो भी पहले हो, तक का होता है। उनका वही स्तर होता है जो कि भारत के उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीषों का होता है तथा उन्हें उनके समतुल्य ही वेतन और अनुलाभ मिलते हैं। मुख्य निर्वाचन आयुक्त को पद से, केवल संसद द्वारा महाभियोग के माध्यम से हटाया जा सकता है।

कार्य निश्पादन

आयोग अपने कार्यों का निश्पादन, नियमित बैठकों के आयोजन और दस्तावेजों के परिचालन द्वारा करता है। आयोग द्वारा निर्णय लेने की प्रक्रिया में सभी निर्वाचन आयुक्तों के पास समान अधिकार होते हैं। समय-समय पर आयोग अपने सचिवालय में अपने अधिकारियों को कुछ कार्यकारी प्रकार्यों का प्रत्यायोजन करता है।

भारत निर्वाचन आयोग

संरचना

आयोग का नई दिल्ली में एक पृथक सचिवालय है जिसमें लगभग 300 अधिकारी/कर्मचारी पदानुक्रम रूप से कार्य करते हैं।

आयोग के कार्यों में सहयोग देने के लिए सचिवालय के वरिश्ठतम अधिकारी के रूप में दो या तीन उप निर्वाचन आयुक्त और महानिदेषक होते हैं। वे सामान्यतः देष की राश्ट्रीय सिविल सेवा से नियुक्त किए जाते हैं और उनका चयन व कार्यकाल सहित उनकी नियुक्ति आयोग द्वारा की जाती है। इसी तरह से, निदेषक, प्रधान सचिव, सचिव, अवर सचिव और उप निदेषक, उप निर्वाचन आयुक्तों और महानिदेषकों को सहयोग देते हैं। आयोग में कार्य का प्रकार्यात्मक और प्रादेषिक वितरण किया गया है। कार्य को डिविजनों, षाखाओं और अनुभागों में वितरित किया गया है; उल्लिखित इकाईयों में से प्रत्येक आखिरी इकाई अनुभाग अधिकारी के प्रभार में होती है। मुख्य प्रकार्यात्मक प्रभाग हैः योजना, न्यायिक, प्रषासन, सुव्यवस्थित मतदाता षिक्षा एवं निर्वाचक सहभागिता (स्वीप), सूचना प्रणालियां, मीडिया और सचिवालय समन्वयन। विभिन्न जोन के लिए उत्तरदायी पृथक-इकाईयों के मध्य प्रादेषिक कार्य का बँटवारा किया गया है जिसके लिए प्रबंधन की सुविधा हेतु देष के 35 संघटक राज्यों और संघ राज्य-क्षेत्रों को समूहीकृत किया गया है।

राज्य स्तर पर निर्वाचन कार्य का अधीक्षण राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी द्वारा आयोग के समग्र अधीक्षण, निदेषन और नियंत्रण के अध्यधीन किया जाता है, इन मुख्य निर्वाचन अधिकारियों की नियुक्ति संबंधित राज्य सरकार द्वारा प्रस्तावित वरिश्ठ सिविल सेवकों में से आयोग द्वारा की जाती है। अधिकतर राज्यों में वे एक पूर्णकालिक अधिकारी होते हैं और उनके पास सहायक स्टाफ की छोटी सी एक टीम होती है।

जिला एवं निर्वाचन क्षेत्र स्तरों पर जिला निर्वाचन अधिकारी, निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी और रिटर्निंग अधिकारी होते हैं जिन्हें बड़ी संख्या में कनिश्ठ पदाधिकारियों का सहयोग मिलता है और वे निर्वाचन कार्य निश्पादित करते हैं। वे सभी अपने अन्य दायित्वों के अतिरिक्त निर्वाचनों से संबंधित अपने प्रकार्यों का भी निश्पादन करते हैं। तथापि, निर्वाचन के दौरान, वे आयोग के लिए कमोबेष, पूर्णकालिक आधार पर उपलब्ध होते हैं।

देष व्यापी स्तर पर साधारण निर्वाचन का संचालन करने के लिए अति विषाल कार्यबल में लगभग पाँच मिलियन निर्वाचन कर्मी एवं सिविल पुलिस बल षामिल हैं। यह विषाल निर्वाचन तंत्र निर्वाचन आयोग की प्रतिनियुक्ति पर माना जाता है और निर्वाचन अवधि, जो डेढ़ से दो महीनों की अवधि तक विस्तारित होती है, के दौरान उसके नियंत्रण, अधीक्षण एवं अनुषासन के अध्यधीन होता है।

बजट एवं व्यय

आयोग सचिवालय का अपना एक स्वतंत्र बजट होता है जिसे आयोग और संघ सरकार के वित्त मंत्रालय के परामर्ष से अंतिम रूप दिया जाता है। वित्त मंत्रालय सामान्य रूप से आयोग के बजट हेतु इसकी संस्तुतियों को स्वीकार कर लेता है। तथापि, निर्वाचनों के वास्तविक संचालन पर मुख्य व्यय, संघ राज्यों तथा संघ षासित क्षेत्रों की संबंधित घटक इकाईयों के बजट में प्रतिबिंबित किया जाता है। यदि निर्वाचन केवल लोक सभा के लिए ही करवाए जाते हैं तो व्यय समग्र रूप से संघ सरकार द्वारा वहन किया जाता है जबकि केवल राज्य विधान मंडल के लिए करवाए जाने वाले निर्वाचनों के लिए सारा व्यय संबंधित राज्य द्वारा वहन किया जाता है। संसदीय एवं राज्य विधान मंडल के निर्वाचन साथ-साथ होने की स्थिति में, केन्द्र एवं राज्य सरकार के बीच व्यय की समान रूप से हिस्सेदारी होती है। पंूजीगत उपस्कर, निर्वाचक नामावलियों को तैयार करने संबंधी व्यय तथा निर्वाचकों के पहचान पत्रों संबंधी योजना का व्यय भी समान रूप से बांट लिया जाता है।

कार्यकारी हस्तक्षेप प्रतिबंधित

अपने कार्यों के निश्पादन में, निर्वाचन आयोग कार्यकारी हस्तक्षेप से मुक्त है। आयोग ही निर्वाचनों के संचालन के लिए निर्वाचन कार्यक्रम के बारे में निर्णय लेता है चाहे वह साधारण निर्वाचन हों या उप निर्वाचन। पुनः, आयोग ही मतदान केन्द्रों की अवस्थिति, मतदान केन्द्रों के अनुसार मतदाताओं का आबंटन, मतगणना केन्द्रों की अवस्थिति, मतदान केन्द्रों एवं उसके आस-पास किए जाने वाले प्रबंधों और मतगणना केंद्रों तथा सभी संबंधित मामलों पर निर्णय लेता है।

राजनीतिक दल एवं आयोग

राजनीतिक दल विधि के अधीन निर्वाचन आयोग के साथ पंजीकृत हंै। आयोग उन पर सामयिक अंतरालों पर संगठन संबंधी निर्वाचन करवाने हेतु जोर देकर उनके कामकाज में आंतरिक दलीय लोकतंत्र सुनिष्चित करता है। निर्वाचन आयोग के साथ इस प्रकार पंजीकृत राजनैतिक दलों को निर्वाचन आयोग, अपने द्वारा निर्धारित मानदंडों के अनुसार, साधारण निर्वाचनों में राजनैतिक दलों के मतदान प्रदर्षन के आधार पर राज्यीय एवं राश्ट्रीय स्तर की मान्यता प्रदान करता है। आयोग, अपने अर्ध-न्यायिक अधिकार क्षेत्र के भाग के रूप में, ऐसे मान्यता प्राप्त दलों से अलग हुए दलों के बीच के विवादों का भी निपटान करता है।

निर्वाचन आयोग, राजनीतिक दलों की सहमति से तैयार की गई आदर्ष आचार संहिता का उनके द्वारा कड़ाई से अनुपालन करवाकर निर्वाचन मैदान में राजनीतिक दलों के लिए समान अवसर सुनिष्चित करता है।

आयोग राजनीतिक दलों के साथ आवधिक रूप से निर्वाचनों के संचालन संबंधी मामलों एवं आदर्ष आचार संहिता के अनुपालन और आयोग द्वारा निर्वाचन संबंधी मामलों पर प्रस्तावित नए उपायों को लागू करने पर विचार विमर्ष करता है।

भारत निर्वाचन आयोग

परामर्षी अधिकार क्षेत्र एवं अर्ध-न्यायिक प्रकार्य

संविधान के अधीन आयोग के पास संसद एवं राज्य विधान मंडलों के आसीन सदस्यों की निर्वाचन पष्च निरर्हता के मामले में परामर्षी अधिकार हैं। इसके अतिरिक्त निर्वाचनों में भ्रश्ट आचरण के लिए दोशी पाए जाने वाले व्यक्तियों के मामले, जो कि उच्चतम न्यायालय एवं उच्च न्यायालयों के समक्ष प्रस्तुत किए जाते हैं, भी आयोग की राय जानने के लिए कि क्या ऐसे लोगों को निर्रहित कर दिया जाए और, यदि हां, तो कितने समय के लिए, संबंधी मामले आयोग को सन्दर्भित किए जाते हैं। ऐसे सभी मामलों में आयोग की राय राश्ट्रपति या राज्यपाल, यथामामला जिन्हें ऐसी राय प्रस्तुत की जाती है, पर बाध्यकारी होते हैं।

आयोग के पास ऐसे अभ्यर्थी, जो विधि द्वारा निर्धारित समय और रीति से अपने निर्वाचन व्यय के लेखे दाखिल करने में असफल हो जाते हैं, को निर्रहित करने का अधिकार है। आयोग के पास विधि के अधीन अन्य निर्रहता तथा साथ ही ऐसी निर्रहता की अवधि को समाप्त करने या कम करने का अधिकार भी है।

न्यायिक समीक्षा

आयोग के निर्णयों को भारत के उच्च न्यायालय और उच्चतम न्यायालय में उचित याचिका द्वारा चुनौती दी जा सकती है। लंबे समय से चली आ रही परिपाटी और अनेक न्यायिक घोशणाओं के द्वारा, यदि एक बार निर्वाचनों की वास्तविक प्रक्रिया षुरू हो जाती है तो न्यायपालिका मतदान के वास्तविक संचालन में हस्तक्षेप नहीं करती है। एक बार मतदान समाप्त हो जाने एवं परिणाम घोशित हो जाने पर, आयोग किसी परिणाम का पुनरीक्षण स्वयं नहीं कर सकता है। संसदीय एवं राज्य विधान मण्डलों के निर्वाचनों के संबंध में इसका पुनरीक्षण केवल निर्वाचन याचिका की प्रक्रिया के माध्यम से किया जा सकता है जो कि उच्च न्यायालय के समक्ष रखी जाती है। राश्ट्रपतीय और उप राश्ट्रपतीय कार्यालयों के निर्वाचनों के संबंध में, ऐसी याचिका केवल उच्चतम न्यायालय के समक्ष ही दायर की जा सकती है।

मीडिया नीति

मीडिया के संबंध में आयोग की व्यापक नीति है। निर्वाचन अवधि के दौरान एवं अन्य अवसरों पर यथा आवष्यकता विषिश्ट अवसरों पर लघु अंतरालों पर पिं्रट एवं इलेक्ट्राॅनिक मास मीडिया के लिए यह नियमित ब्रीफिंग आयोजित करता है। मीडिया के प्रतिनिधियों को मतदान एवं मतगणना के वास्तविक संचालन पर रिपोर्ट बनाने के लिए सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाती हैं। उन्हें आयोग द्वारा जारी प्राधिकार पत्रों के आधार पर मतदान केन्द्रों एवं गणना केन्द्रों में जाने की अनुमति दी जाती है। इसमें अंतर्राश्ट्रीय एवं राश्ट्रीय मीडिया दोनों के सदस्य षामिल होते हैं। आयोग सांख्यिकीय रिपोर्ट एवं अन्य दस्तावेज प्रकाषित करता है जो लोकव्यापी रूप में उपलब्ध होते हैं। आयोग का पुस्तकालय षैक्षिक भ्रातृत्व के सदस्यों, मीडिया प्रतिनिधियों एवं अन्य कोई भी इच्छुक व्यक्ति जो इसमें रूचि रखता हो, के षोध एवं अध्ययन के लिए उपलब्ध है।

आयोग ने मतदाताओं की जागरूकता के लिए राज्य के स्वामित्व वाले मीडिया – दूरदर्षन एवं आकाषवाणी के सहयोग से बड़ा प्रचार अभियान चलाया है। प्रसार भारती काॅर्पोरेषन, जो राश्ट्रीय रेडियो एवं टेलीविजन नेटवर्क का प्रबंधन करती है, ने इस उद्देष्य के लिए अनेक नवीन एवं प्रभावकारी लघु क्लिप बनाई हैं।

मतदाता शिक्षा

लोकतान्त्रिक एवं निर्वाचन प्रक्रियाओं में मतदाता सहभागिता किसी भी लोकतन्त्र की सफलता के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण होती है और लोकतान्त्रिक निर्वाचनों का पूर्ण आधार यही है। इस तथ्य को पहचानते हुए, निर्वाचन आयोग ने वर्श 2009 में निर्वाचन प्रबन्धन के अभिन्न अंग के रूप में मतदाता षिक्षा और निर्वाचन सहभागिता को औपचारिक रूप से अपनाया है।

अंतर्राष्ट्रीय सहयोग

भारत, लोकतंत्र और निर्वाचन सहायता हेतु अंतर्राष्ट्रीय संस्थान, (आई डी ई ए) स्टाॅकहोम, स्वीडन का एक संस्थापक सदस्य है। अभी हाल ही में, आयोग ने निर्वाचन प्रबंधन एवं प्रषासन, निर्वाचक विधियां एवं सुधार के क्षेत्र में अपने अनुभव एवं विषेश जानकारी को साझा करने के लिए अंतर्राश्ट्रीय संबंधो को बढ़ाया है। विभिन्न देषों यथा रूस, श्रीलंका, नेपाल, इंडोनेषिया, दक्षिण अफ्रीका, बांग्लादेष, थाईलैण्ड, नाइजीरिया, नामीबिया, भूटान, आस्ट्रेलिया, संयुक्त राज्य अमेरिका और अफगानिस्तान इत्यादि के राश्ट्रीय निर्वाचन निकायों के निर्वाचन अधिकारी और अन्य षिश्ट मंडल भारतीय निर्वाचन प्रक्रिया को बेहतर रूप से समझने के लिए आयोग का दौरा कर चुके हैं। आयोग ने संयुक्त राश्ट्रसंघ और राश्ट्रमंडल सचिवालय के सहयोग से अन्य देषों के निर्वाचनों के लिए प्रेक्षकों और विषेशज्ञों को भी उपलब्ध कराया था।

भारत निर्वाचन आयोग

नई पहलें

आयोग ने हाल ही पूर्व में कई नई पहल की हैं। इनमें से कुछ उल्लेखनीय हैं – राजनैतिक दलों द्वारा रेडियो प्रसारण/दूरदर्षन प्रसारण के लिए राज्य के स्वामित्व वाली इलेक्ट्राॅनिक मीडिया के प्रयोग पर योजना बनाना, राजनीति के अपराधीकरण पर रोक लगाना, निर्वाचक नामावलियों का कंप्यूटरीकरण, निर्वाचकों को पहचान पत्र उपलब्ध करवाना, अभ्यर्थियों द्वारा लेखों के रख रखाव करने और उन्हें जमा कराने की प्रक्रिया को सरल बनाना तथा आदर्ष आचार संहिता के कड़ाई से अनुपालन हेतु विविध उपाय करना, निर्वाचनों के दौरान अभ्यर्थियों को एक समान अवसर उपलब्ध करवाना।

भारत निर्वाचन आयोग – अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1. तारकुंडे समिति तथा गोस्वामी समिति का सम्बन्ध है– [GIC]
(A) चुनाव व्यवस्था में आमूल सुधार (B) चुनाव में अपराधी तत्त्वों की वृद्धि पर प्रतिबंध
(C) राज्य द्वारा निर्वाचन के लिए वित्तीय सहायता (D) चुनाव में काला धन के बढ़ते प्रभाव पर रोक (Ans : A)
 
2. पार्लियामेन्ट द्वारा दिसम्बर 1999 ई. में निर्मित कानून के अनुसार एक नागरिक के वयस्क होने की कानूनी आयु है? [UPPCS (Pre)]
(A) 23 वर्ष (B) 22 वर्ष (C) 20 वर्ष (D) 18 वर्ष (Ans : D)
 
3. प्रत्यक्ष निर्वाचन किसे कहते हैं? [Constable]
(A) निर्वाचक मण्डल द्वारा प्रतिनिधि चुनना (B) अभिजात वर्ग द्वारा प्रतिनिधि चुनाना
(C) जनता द्वारा प्रतिनिधि चुनाना (D) इनमें से कोई नहीं (Ans : C)
 
4. उपचुनाव कराया जाता है– [SSC]
(A) 2 वर्ष बाद (B) 3 वर्ष बाद (C) 5 वर्ष बाद (D) कभी भी (Ans : D)
 
5. किसी निर्वाचन के दौरान किसी राजनीतिक दल के उम्मीदवार की मृत्यु हो जाने की स्थिति में कितने दिनों के अंदर दूसरा प्रत्याशी खड़ा करना पड़ता है? [ITI]
(A) 15 (B) 10 (C) 7 (D) 30 (Ans : C)
 
6. भारत की निर्वाचन पद्धति निम्न में से किस देश की निर्वाचन पद्धति के अनुरूप है? [UPSC]
(A) रूस (B) अमेरिका (C) ब्रिटेन (D) फ्रांस (Ans : C)
 
7. निर्वाचन आयोग, सर्वोच्च न्यायालय, संघ लोक सेवा आयोग, नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक का कार्यालय जैसी संस्थाओं में कौन-सा एक लक्षण समान है? [SSC Grad.]
(A) वे रामर्शदात्री संस्थाएँ हैं (B) वे संविधानेत्तर संस्थाएँ हैं
(C) वे विधानमण्डलों द्वारा नियंत्रित हैं (D) वे संवैधानिक संस्थाएँ हैं (Ans : D)
 
8. भारत के प्रथम मुख्य चुनाव आयुक्त कौन थे? [RRB, SSC]
(A) के. वी. के. सुन्दरम (B) सुकुमार सेन (C) एस. पी. सेन शर्मा (D) टी. स्वामीनाथन (Ans : B)
 
9. निर्वाचन आयोग का चेयरमैन कौन होता है? [GIC]
(A) राष्ट्रपति (B) उपराष्ट्रपति (C) प्रधानमंत्री (D) मुख्य निर्वाचन आयुक्त (Ans : D)
 
10. निर्वाचन आयोग का प्रमुख होता है– [B.Ed.]
(A) राष्ट्रपति (B) उपराष्ट्रपति (C) प्रधानमंत्री (D) मुख्य निर्वाचन आयुक्त (Ans : D)
 
11. मुख्य निर्वाचन आयुक्त की नियुक्ति तथा उसको पदच्युत करने का अधिकार निम्नलिखित में से किसको है? [Police (SI)]
(A) प्रधानमंत्री (B) मुख्य न्यायाधीश (C) राष्ट्रपति (D) संसद (Ans : C)
 
12. भारत में सार्वजनिक मताधिकार के आधार पर प्रथम चुनाव सम्पन्न हुआ– [RRB]
(A) 18 वर्ष (B) 21 वर्ष (C) 35 वर्ष (D) इनमें से कोई नहीं (Ans : A)
 
13. 1952 का वर्ष भारतीय इतिहास में क्यों महत्त्वपूर्ण है? [RRB]
(A) राज्य पुनर्गठन अधिनियम पारित हुआ था (B) हरियाणा राज्य विभाजित हुआ था
(C) भारत में प्रथम सरकारी जनगणना हुई थी (D) लोकसभा का प्रथम आम निर्वाचन हुआ था (Ans : D)
 
14. भारत में मतदान की आयु सीमा को 21 वर्ष से घटाकर 18 वर्ष कब किया गया? [SSC mat.]
(A) 1988 ई. (B) 1989 ई. (C) 1990 ई. (D) 1991 ई. (Ans : B)

भारत निर्वाचन आयोग

 
15. भारत के विभिन्न राजनीतिक दलों को राष्ट्रीय या क्षेत्रीय दल का दर्जा देने का अधिकार किसको है? [BPSC (Pre)]
(A) संसद (B) राष्ट्रपति (C) चुनाव आयोग (D) सर्वोच्च न्यायालय (Ans : C)
 
16. अन्य निर्वाचन आयुक्त अपना त्यागपत्र देते हैं– [Force]
(A) राष्ट्रपति को (B) प्रधानमंत्री को (C) उपराष्ट्रपति को (D) मुख्य निर्वाचन आयुक्त को (Ans : A)
 
17. दिनेश गोस्वामी समिति का संबंध था? [IAS (Pre)]
(A) बैंकों में राष्ट्रीयकरण की समाप्ति से (B) निर्वाचन सुधारों से
(C) पूर्वोत्तर में उपद्रव समाप्त करने के उपायों से (D) चकमा समस्या से (Ans : B)
 
18. भारत का दूसरा मुख्य चुनाव आयुक्त कौन था? [Constable]
(A) एम. एस. गिल (B) सुकुमार सेन (C) के. वी. के. सुन्द्रम (D) आर. के. त्रिवेदी (Ans : C)
 
19. मतदाताओं के पंजीयन का उत्तरदायित्व किस पर है? [ITI]
(A) राज्यपाल (B) मतदाता (C) राजनीतिक दल (D) निर्वाचन आयोग (Ans : D)
 
20. परिसीमन आयोग का अध्यक्ष होता है– [Force]
(A) राष्ट्रपति (B) गृहमंत्री (C) मुख्य चुनाव आयुक्त (D) प्रधानमंत्री (Ans : C)

दोस्तों अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल है या ebook की आपको आवश्यकता है तो आप निचे comment कर सकते है. आपको किसी परीक्षा की जानकारी चाहिए या किसी भी प्रकार का हेल्प चाहिए तो आप comment कर सकते है. हमारा post अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे.

You May Also Like This

अगर आप इसको शेयर करना चाहते हैं |आप इसे Facebook, WhatsApp पर शेयर कर सकते हैं | दोस्तों आपको हम 100 % सिलेक्शन की जानकारी प्रतिदिन देते रहेंगे | और नौकरी से जुड़ी विभिन्न परीक्षाओं की नोट्स प्रोवाइड कराते रहेंगे |

Disclaimer: wikimeinpedia.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है ,तथा इस पर Books/Notes/PDF/and All Material का मालिक नही है, न ही बनाया न ही स्कैन किया है |हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है| यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे.

About the author

Anjali Yadav

Leave a Comment