हिंदी साहित्य का इतिहास

भारतेंदु युग के कवि और उनकी रचनाएँ PDF Download

भारतेंदु युग के कवि और उनकी रचनाएँ in Hindi PDF Download
भारतेंदु युग के कवि और उनकी रचनाएँ in Hindi PDF Download

भारतेंदु युग के कवि और उनकी रचनाएँ in Hindi PDF Download –Hello Friends, अगर आप किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने के लिए हिन्दी व्याकरण के notes या बुक तलाश कर रहे हैं तो आप एकदम सही स्थान पर हो क्यूंकि आज हम आप सभी के लिए भारतेंदु युग के कवि और उनकी रचनाएँ hindi grammar Book लेकर आये हैं ये notes एकदिवसीय परीक्षा की तैयारी करने के लिए बहुत ही उपयोगी notes हैं. जैसे की आप सभी जानते ही हैं की ऐसी परीक्षाओं में Hindi Grammar से बहुत से प्रश्न पूछे जाते हैं. अगर आप हमारी वेबसाइट के नये विजिटर हैं तो हम आपको बता दें कि हम यहाँ हर दिन इसी तरह का स्टडी मटेरियल लेकर आते हैं जो Competitive Exams के लिए उपयोगी होता है. अगर आप प्रतियोगी  परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो दोस्तों आप सभी इसका PDF नीचे दिए हुए बटन पर क्लिक करके आसान रूप से Download कर सकते हो.

जरुर पढ़े… 

भारतेंदु युग के कवि और उनकी रचनाएँ

 
भारतेंदु युग (सन् 1868 से 1902) आधुनिक कविता का प्रवेश द्वार है।भारतेंदु हरिश्चंद्र ने कविता को रीतिकालीन दरबारी तथा शृंगार-प्रधान वातावरण से निकाल कर उसका जनता से नाता जोड़ा।इस युग के कविमंडल पर भारतेंदु जी के महान् व्यक्तित्व की गहरी एवं स्पष्ट छाप है।इस समय का काव्य चक्र भारतेंदु के व्यक्तित्व रूपी धुरी पर ही घुम रहा है।उन्होंने कवियों को दान व मान,दोनों से प्रोत्साहन दिया।उन्होंने बहुत से कवि-समाज स्थापित किए,जिनमें उपस्थित की हुई समस्याओं की पूर्ति में बड़ी उत्कृष्ट कविता की सृष्टि हुई।भारतेंदु युग की कविता में प्राचीन और आधुनिक काव्य-प्रवृत्तियों का समन्वय मिलता है।उसमें भक्ति-कालीन भक्ति भावना और रीतिकालीन शृंगार-भावना के साथ-साथ राजनीतिक चेतना,सामाजिक व्यवस्था,धार्मिक एवं आर्थिक शक्तियाँ,काव्य की विषय सामग्री को प्रभावित करने लगी।राजभक्ति,देश-प्रेम,सामाजिक व्यवस्था के प्रति दुख प्रकाश,सामाजिक कुरीतियों का खंडन,आर्थिक अवनति के प्रति क्षोभ,धन का विदेश की ओर प्रवाह,विधवा विवाह, विधवा-अवनति, बालविवाह,रुढ़ियों का खंडन एवं सामाजिक आन्दोलनों एवं स्त्री-स्वातंत्र्य की हिमायत आदि  आधुनिक काव्य-प्रवृत्तियों के दर्शन हुए।हास्य और व्यंग्य तथा प्रकृति चित्रण में भी इस युग की कविता में विकास दिखाई पड़ता है। इस युग की कविता में देश और जनता की भावनाओं और समस्याओं को पहली बार अभिव्यक्ति मिली।कवियों ने सांस्कृतिक गौरव का चित्र प्रस्तुत कर लोगों में आत्म-सम्मान की भावना भरने का प्रयत्न किया।बहुत से संस्कृत महाकाव्यों का अनुवाद हुआ।इस युग में काव्य की भाषा ब्रजभाषा ही रही।यद्यपि खड़ी बोली में भी छुट-पुट प्रयत्न हुए,पर वे नगण्य ही थे। 
 
इस युग के मुख्य कवि थे – भारतेंदु हरिश्चंद्र, बदरीनारायण चौधरी ‘प्रेमघन’, प्रतापनारायण मिश्र, बालमुकुंद गुप्त, ठाकुर जगमोहन सिंह,अम्बिकादत्त व्यास,नवनीत लाल चतुर्वेदी,बाबू राधाकृष्णदास,लाला सीताराम बी.ए.,मिश्रबंधु, जगन्नाथदास ‘रत्नाकर’,राय देवीप्रसाद पूर्ण, वियोगी हरि, सत्यनारायण ‘कविरत्न’, श्रीनिवास दास,राधाचरण गोस्वामी,बालकृष्ण भट्ट आदि।

1. भारतेंदु हरिश्चंद्र की रचनाएँ : भारतेंदु के काव्य ग्रंथों की संख्या 70 है। काशी-नागरी-प्रचारिणी सभा ने इनका संकलन भारतेंदु ग्रंथावली(दो खंडों में) में किया है।इसमें से कुछ प्रमुख रचनाओं के नाम इस प्रकार हैं :-भक्त सर्वस्व, प्रेम-सरोवर,प्रेम-माधुरी,प्रेम-तरंग,सतसई-शृंगार,होली,वर्षा-विनोद,विजय-वल्लरी,मधुमुकुल, उत्तरार्ध,भक्तमाल,प्रेम-फुलवारी,दानलीला। 
2.बद्री नारायण चौधरी ‘प्रेमघन’ की मुख्य काव्य रचनाएँ : जीर्ण जनपद, शुभ सम्मिलन काव्य, वर्षा बिंदुगान,संगीत सुधाकर, हार्दिक हर्षादर्शकाव्य।
3. अम्बिका दत्त व्यास की मुख्य काव्य रचनाएँ : पावन पचासा, बिहारीबिहार, चांद की रात। 
4.जगन्नाथदास रत्नाकर की मुख्य रचनाएँ : हरिश्चंद्र, गंगालहरी,कलकाशी,उद्धवशतक, गंगावतरण।  

भारतेंदु युग के कवि और उनकी रचनाएँ PDF

दोस्तों अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल है या ebook की आपको आवश्यकता है तो आप निचे comment कर सकते है. आपको किसी परीक्षा की जानकारी चाहिए या किसी भी प्रकार का हेल्प चाहिए तो आप comment कर सकते है. हमारा post अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे.

This image has an empty alt attribute; its file name is hkjl.png

You May Also Like This

अगर आप इसको शेयर करना चाहते हैं |आप इसे Facebook, WhatsApp पर शेयर कर सकते हैं | दोस्तों आपको हम 100 % सिलेक्शन की जानकारी प्रतिदिन देते रहेंगे | और नौकरी से जुड़ी विभिन्न परीक्षाओं की नोट्स प्रोवाइड कराते रहेंगे |

Disclaimer: wikimeinpedia.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है ,तथा इस पर Books/Notes/PDF/and All Material का मालिक नही है, न ही बनाया न ही स्कैन किया है |हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है| यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे.

Leave a Comment