MBBS Full From : What is the Full Form Of MBBS

0
3
MBBS Full From : What is the Full Form Of MBBS
MBBS Full From : What is the Full Form Of MBBS

MBBS Full From : What is the Full Form Of MBBS

MBBS Full Form in Hindi – एमबीबीएस क्या है?

MBBS Full Form in Hindi, MBBS की Full Form क्या हैं, एमबीबीएस की फुल फॉर्म क्या है, Full Form of MBBS in Hindi, MBBS Form in Hindi,MBBS का पूरा नाम क्या है, MBBS Ka Poora Naam Kya Hai, MBBS करके कौन- कौन सी Post प्राप्त कर सकते है, MBBS Kya Hota Hai, दोस्तों क्या आपको पता है MBBS की Full Form क्या है, और MBBS होता क्या है, अगर आपका answer नहीं है तो आपको उदास होने की कोई जरुरत नहीं क्यूंकि आज हम इस article के माध्यम से ये जानेंगे की MBBS क्या होता है, और इसकी Full Form क्या होती है? चलिए MBBS के बारे में सभी प्रकार की सामान्य information आसान भाषा में इस article की मदद से प्राप्त करते हैं।

MBBS की full form “Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery” होती है. MBBS का हिंदी भाषा में अर्थ “चिकित्सा स्नातक और शल्य चिकित्सा स्नातक” होता है. जैसा की आप जानते है MBBS एक मास्टर degree है जिसे प्राप्त करने के बाद आप डॉक्टर बन सकते है।

MBBS की डिग्री complete करने के बाद जैसा की आप जानते है आपके नाम के आगे “Doctor” शब्द लगा जाता है, MBBS Course की समय अवधि 4 वर्ष 6 month तक की होती है और इस course में आपको 9 semester तक study करनी पड़ती है और हर semester 6 month का होता है, और इसमें 1 वर्ष की intership भी होती है, जिसे मिलाकर पूरा Course 5 वर्ष 6 month का बन जाता है।

MBBS की degree को आमतौर पर “Doctor” के रूप में जाना जाता है, और नाम के सामने उपाधि के तौर पर “Dr” का उपयोग किया जाता है, आज के समय में कई देशों में, एक स्नातक syllabus को पांच या फिर छह साल तक चलाने के बाद इस degree को प्रदान की जाती है, MBBS 2 शब्द, M.B Medicinae Baccalaureus ‘ और B.S Bachelor of Surgery से मिल कर बना है, दोस्तों हालांकि दोनों नाम अलग-अलग degree को सुझाता है, लेकिन यह केवल 1 ही degree है, यह एक undergraduate academic degree course है जो medicine और surgery के साथ काम करता है।

What is MBBS in Hindi

MBBS की फुल फॉर्म Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery होती है, और हिंदी में इसे चिकित्सा स्त्रातक और शल्य चिकित्सा स्त्रातक” कहते हैं। MBBS एक मास्टर डिग्री है जिसे प्राप्त करने के बाद आप doctor बन सकते हैं. दोस्तों जैसा की हम सभी जानते है वर्तमान में MBBS doctor बनने का ख्वाब हर कोई मेडिकल स्टूडेंट देखता है, और बहुत से स्टूडेंट आपने इस ख्वाब को कड़ी मेहनत से प्राप्त भी कर लेते है. हमारे समाज में एक doctor को बहुत सम्मान दिया जाता है, और doctor की अच्छी सैलरी भी होती है यही वजह है की ज्यादातर लोग doctor बनने का ख्वाब देखते है।

अंग्रेजी में एमबीबीएस का मतलब है बैचलर ऑफ मेडिसिन और बैचलर ऑफ सर्जरी होता है, लैटिन में, इसका मतलब है मेडिसिन बेकालायुरस, बाकल्यूरियस चिरुरगिया. MBBS एक मेडिकल डिग्री है, जो कि doctor बनने के लिए की जाती है, इस डिग्री में admission लेने के लिए (CET) कॉमन एंट्रेंस टेस्ट और (AIMEE) ऑल इंडिया मेडिकल एंटरेंस एग्जामिनेशन test देना पड़ता है. आपकी जानकारी के लिए बता दे की यह एंटरेंस एग्जामि बहुत ही कठिन होता है, इसे पास करना बहुत ही मुश्किल काम होता है. लेकिन अगर आप कड़ी मेहनत करते है, तो फिर आप इसे पास कर सकते है इस एंटरेंस एग्जामिनेशन टेस्ट को देने के लिए या apply करने के लिए आपकी उम्र 17 वर्ष होनी आवश्यक है. MBBS doctor बनने में 5.5 साल का समय लग सकता है. आप doctor बनने के बाद Hospital में काम कर सकते हो और चाहे तो अपना clinic भी खोल सकते है।

आज के समय ऐसा बहुत से लोग करते भी है. दोस्तों इस कोर्स को करने के लिए बहुत ज्यादा फीस देनी पड़ती है जिसके कारण बहुत बहुत से स्टूडेंट इस कोर्स नहीं कर पते है. अगर आप MBBS doctor बनने की पढाई Private college से करते हो तो इसका खर्चा करीब दस लाख सलाना हो सकता है. वही Government college में सलाना 50 हज़ार से 2 लाख तक का खर्चा आ सकता है. अगर किसी के पास ज्यादा पैसे नहीं है और डॉक्टर बनना चाहते है तो ऐसे लोग AIIMS में Admission ले सकते हो इसकी फीस बहुत कम होती है, लेकिन AIIMS में Admission के लिए आपको कड़ी मेहनत करनी होती है क्यूंकि सीट बहुत कम होती है।

MBBS के Course कि Eligibilty

MBBS course को करने के लिए आपके पास किया योग्यता होनी चाहिए आइये जानते है, MBBS course को करने के लिए दोस्तों आपका 12th में Physics, Chemistry और Biology से पास होना बहुत ही आवशयक है, और आपके मार्क्स 50% या उससे अधिक होना भी जरूरी है, और MBBS में प्रवेश पाने के लिए आपकी उम्र 17 से 25 वर्ष के बीच होना बहुत जरूरी है।

आज के समय में MBBS कि प्रवेश exam NEET ही conduct करता है. दोस्तों अगर आप किसी भी सरकारी या प्राइवेट कॉलेज में Admission लेना चाहते है तो आपको NEET कि प्रवेश exam को पास करना होता है. इस exam के पास किये बिना आप MBBS के लिए किसी भी कॉलेज में दाखिला नही ले सकते।

एमबीबीएस करने के बाद करियर विकल्प क्या हैं?

MBBS इंटर्नशिप के एक वर्ष के दौरान, छात्र अस्पतालों और स्वास्थ्य सेवा केंद्रों के साथ सलाहकार, चिकित्सक, महत्वपूर्ण देखभाल इकाइयों में चिकित्सा सहायकों के साथ अन्य लोगों के साथ काम कर सकते हैं. वे सरकार द्वारा स्वास्थ्य अभियानों में भी काम कर सकते हैं और सम्मेलनों के माध्यम से जनता को बीमारियों, दवाओं, स्वास्थ्य और फिटनेस के बारे में जागरूकता के साथ मदद कर सकते हैं।

MBBS इंटर्नशिप पूरा होने पर, छात्र खुद को मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (MCI) के साथ डॉक्टरों के रूप में पंजीकृत करवा सकते हैं. वे या तो चिकित्सा विज्ञान में स्नातकोत्तर डिग्री के लिए आवेदन कर सकते हैं अर्थात् एमडी / एमएस या योग्य डॉक्टरों के रूप में स्वास्थ्य क्षेत्र में काम करना जारी रख सकते हैं।

चिकित्सा विज्ञान में आगे की शिक्षा प्राप्त करने के दौरान, एमबीबीएस-डिग्री धारक भी अनुसंधान सहयोगियों के रूप में फार्मास्यूटिकल्स के साथ जुड़ सकते हैं. इसके अलावा, MBBS स्नातक के लिए संयुक्त चिकित्सा सेवा परीक्षा लेने का विकल्प हमेशा खुला रहता है. उन्हें अस्पतालों, रक्षा क्षेत्र, रेलवे सहित स्थानीय और राज्य सरकार के साथ केंद्र सरकार के संगठनों के साथ नियोजित किया जा सकता है।

एमबीबीएस के लिए आवश्यक कौशल क्या हैं?

प्रत्येक चिकित्सा और स्वास्थ्य विज्ञान व्यवसायी के पास आवश्यक कौशल होना चाहिए −

NO 1NO 2
एक महत्वपूर्ण और गतिशील वातावरण में काम करने की क्षमतापेशेवर प्रतिबद्धताओं और चिकित्सा नैतिकता
ज्ञान और नए शोध सीखने की इच्छावैज्ञानिक अनुसंधान और विकास कौशल
तीव्र स्मृति और शीघ्र दृष्टिकोणसंचार पारस्परिक कौशल
परामर्श और देखभाल कौशलदृष्टिकोण और अनुभवजन्य कौशल
चिकित्सा लेखन कौशलधैर्य और दृढ़ता

एमबीबीएस प्रवेश परीक्षा के बारे में

भारत में MBBS पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए, एक छात्र को राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (NEET) के लिए उपस्थित होना होगा. यह MBBS पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए एकमात्र प्रवेश परीक्षा है और इसे सरकारी और निजी दोनों संस्थानों द्वारा स्वीकार किया जाता है।

भारत में MBBS पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए दो अन्य प्रमुख प्रवेश परीक्षा JIPMER MBBS परीक्षा और AIIMS MBBS परीक्षा थीं. हालांकि, इन परीक्षाओं को 2019 में भारत में सबसे महत्वपूर्ण मेडिकल प्रवेश परीक्षा NEET बना दिया गया था।

एमबीबीएस में विषय

MBBS पाठ्यक्रम में, आकांक्षी डॉक्टर न केवल चिकित्सा और स्वास्थ्य सेवा उद्योग में और उसके आस-पास के सभी चीजों के बारे में सीखते हैं, बल्कि वे नैतिक प्रथाओं को भी सीखते हैं, अस्पतालों और स्वयंसेवा परियोजनाओं के साथ इंटर्न होते हैं. MBBS पाठ्यक्रम में विषयों के लिए नीचे दी गई तालिका देखें −

Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery (MBBS) Syllabus
AnatomyDermatology & Venereology
BiochemistryMedicine
PhysiologyObstetrics & Gynecology
MicrobiologyOrthopaedics
Forensic Medicine & ToxicologyOphthalmology
PharmacologyPaediatrics
AnesthesiologyPsychiatry
Community MedicineSurgery

एमबीबीएस करने के बाद Job Scope क्या है?

General Physician – एमबीबीएस डिग्री धारक अपना करियर एक सामान्य Physician के रूप में शुरू कर सकते हैं, जो मरीजों की बीमारियों का अध्ययन, निदान, इलाज करता है. आमतौर पर, एक Physician प्राथमिक चरणों में बीमारियों का इलाज करता है, और यदि निदान के बाद रोग महत्वपूर्ण है, तो रोगी को एक प्रासंगिक चिकित्सा व्यवसायी के पास भेजा जाता है।

एक सामान्य Physician को दिया जाने वाला औसत वेतन प्रति वर्ष 4-5 लाख रुपये है।

Paediatrician – एक चिकित्सा व्यवसायी जो बच्चों में बीमारी के उपचार में माहिर हैं और उनकी सामान्य वृद्धि और विकास की जांच करते हैं. एक बाल रोग विशेषज्ञ अपने जन्म के समय से लेकर किशोरावस्था तक और बाद में भी बच्चों को ठीक करता है. वे विकासशील बच्चों में बीमारियों के शीघ्र निदान में मदद करते हैं, माता-पिता को भोजन पर मार्गदर्शन करते हैं और बच्चों को एलर्जी करते हैं. Physician निवारक देखभाल प्रदान करता है, विशेष आवश्यकता वाले बच्चों की वृद्धि और विकास में मदद करता है और दवाओं के साइड इफेक्ट्स और एलर्जी की निगरानी करता है।

बाल रोग विशेषज्ञ को दिया जाने वाला प्रारंभिक वेतन रु। से अधिक है। 4.5 लाख प्रति वर्ष।

Medical Assistant – कार्डियोलॉजी, त्वचाविज्ञान, ऑन्कोलॉजी, नेफ्रोलॉजी, न्यूरोलॉजी, स्त्री रोग, नेत्र विज्ञान जैसे Specialization में एक चिकित्सा सहायक के रूप में करियर शुरू करना रोगियों पर सर्जरी करने के बारे में जानने के लिए एक अच्छा विकल्प है. अपनी चिकित्सा विशेषता के अनुसार आधुनिक Surgical techniques वाले रोगियों का अध्ययन, निदान और उपचार करना, वर्षों से, आधुनिक विज्ञान और प्रौद्योगिकी के साथ, प्रसिद्ध सर्जनों द्वारा चिकित्सा उपलब्धियां रही हैं, जिसका अर्थ है कि यह पेशा पूरी तरह से निरंतर सीखने और अभ्यास करने पर आधारित है।

चिकित्सा सहायक को दिया जाने वाला औसत वेतन रु। 3-4 लाख प्रति वर्ष।

 
दोस्तों अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल है या ebook की आपको आवश्यकता है तो आप निचे comment कर सकते है. आपको किसी परीक्षा की जानकारी चाहिए या किसी भी प्रकार का हेल्प चाहिए तो आप comment कर सकते है. हमारा post अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे.
 

You May Also Like This

अगर आप इसको शेयर करना चाहते हैं |आप इसे Facebook, WhatsApp पर शेयर कर सकते हैं | दोस्तों आपको हम 100 % सिलेक्शन की जानकारी प्रतिदिन देते रहेंगे | और नौकरी से जुड़ी विभिन्न परीक्षाओं की नोट्स प्रोवाइड कराते रहेंगे |

Disclaimerwikimeinpedia.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है ,तथा इस पर Books/Notes/PDF/and All Material का मालिक नही है, न ही बनाया न ही स्कैन किया है |हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है| यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here